दिल्ली वाया शाहीनबाग पहले कौन ?

Anchal Shukla

देश का केन्द्र दिल्ली और दिल्ली का केन्द्र इस बार शाहीन बाग । मतलब दिल्ली की कुर्सी का केन्द्रबिन्दु। कुर्सी से केन्द्रबिन्दु की दूरी तय करेगी कि कौन कुर्सी के सबसे नजदीक है। खैर मतदान होने तक इस गणित के अलावा और भी कई साइकोलौजी विषय हैं,जो कुर्सी तक पहुँचने में काम आ सकते हैं। अपने अपने जीत के दावे ठोकते सियासी दलों का प्रचार-कुप्रचार आखिरी पड़ाव तक पहुँच चुका है। हिन्दुस्तान-पाकिस्तान,देशभक्ति-देशद्रोह और हाँ शाहीन बाग इसके साथ ही नेताओं के बुलन्द अवाज में जीत का आहवान । अब आखिरी बारी जनता की है। लोकतंत्र के पावन पर्व के रिवाज के हिसाब से  एक्जिट पोल का भी अपना एक काम होता है। जो जनता के बयानों और अन्य आँकड़ों के आधार पर सीटें मिलने का पूर्वानुमान बतातें हैं।
इस आाधार पर अगर टाईम्स नाऊ की माने तो इस बार भी केजरीवाल फिर से दिल्ली की सत्ता पर काबिज हो सकते हैं। टाईम्स नाऊ एक्जिट पोल के अनुसार आम आदमी पार्टी को 70 सीटों में 54-60 सीटें तो, दूसरे नम्बर पर बीजेपी रहेगी जिसे 10-14 सीट मिलने का अनुमान है। वहीं एबीपी सी-वोटर के सर्वे के आधार पर आम आदमी पार्टी 42-56 और बीजेपी को 10-24 सीट मिलने का अनुमान है। इस सर्वे के अनुसार भी आम आदमी पार्टी पूर्ण बहुमत से सत्ता में आ सकती हैं। काग्रेेस इस चुनाव में भी मुकाबले से काफी दूर है उसे 2-4 सीट मिलने का अनुमान है।

दिल्ली में 8 फरवरी को मतदान होना है। जिसके लिये चुनाव आयोग ने 13750 पोलिग बूथ बनाये हैं। 146 करोड़ वोटर 668 उम्मीदवारों के किस्मत का फैंसला करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

हम और वायरस 

चीन के वुहान शहर से निकला कोरोना वायरस अब दुनियां के लगभग 20 देशों तक पहुँच चुका है। ताजा खबरों […]