अखिलेश यादव ने केंद्र सरकार से किया सवाल, गलवान घाटी भारत का हिस्सा है या नहीं?

Ashu Yadav

अखिलेश यादव ने कहा कि अगर नहीं तो क्यों विदेश मंत्रालय ने यथास्थिति की मांग की. गलवान घाटी भारत का हिस्सा है या नहीं. हमें स्पष्टीकरण की जरूरत है. हमें सच जानने की जरूरत है.

Informative
अखिलेश यादव ने केंद्र सरकार से पूछा सवाल

चीन के साथ सीमा पर चल रहे तनाव को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सर्वदलीय बैठक चर्चा में है.19 जून को हुई इस बैठक में पीएम मोदी ने दावा किया था कि हमारी जमीन में कोई न घुसा है, न घुसा था, साथ ही हमारी कोई पोस्ट किसी के कब्जे में है. अब विपक्ष केंद्र सरकार पर पीएम मोदी के बयान को लेकर आक्रामक हो गया है.

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि चीनी घुसपैठ के खिलाफ भारत सरकार के साथ पूरा देश खड़ा है. लेकिन उस घटना में जिसमें हमारे जवान मारे गए, क्या एक घुसपैठ थी?

अखिलेश यादव ने कहा कि अगर नहीं तो क्यों विदेश मंत्रालय ने यथास्थिति की मांग की. गलवान घाटी भारत का हिस्सा है या नहीं. हमें स्पष्टीकरण की जरूरत है. हमें सच जानने की जरूरत है.

अखिलेश यादव ने ट्वीट में कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के भारत-चीन एलएसी कथन से भ्रमित होकर जनता पूछ रही है कि यदि चीन हमारे इलाके में नहीं घुसा तो फिर हमारे सैनिक किन हालातों में शहीद हुए और क्या इस कथन से चीन को ‘क्लीन चिट‘ दी जा रही है.

इससे पहले एक अन्य ट्वीट में अखिलेश यादव ने कहा था कि आज पूरा देश व हर दल, चीन और एलएसी पर प्रधानमंत्री के इस कथन के साथ पूरे विश्वास के साथ खड़ा है कि “न कोई हमारे इलाके में घुसा है और न ही किसी पोस्ट पर कब्ज़ा किया है.” अब सरकार को ये सुनिश्चित करना होगा कि देश की सीमाओं के साथ ही जनता के इस विश्वास की भी शत-प्रतिशत रक्षा हो.

इस बयान को आधार बनाकर इससे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया था कि चीन के आक्रामक रवैये के सामने देश की जमीन सरेंडर कर दी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पहली बार डिजिटल मीडिया के जरिए मनाया जाएगा अंतरराष्ट्रीय योग दिवस

21 जून 2015 से अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रस्ताव के बाद 11 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में घोषित किया था.
Decorative

You May Like