दिल्ली के उपराज्यपाल ने बदला केजरीवाल का फैसला, कहा- दिल्ली में कोई भी करा सकता है इलाज

Ashu Yadav

दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के उस फैसले को खारिज कर दिया है जिसमें मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली के कोरोना मरीजों का इलाज होगा.

Informative
उपराज्यपाल ने बदला केजरीवाल का फैसला

नई दिल्ली:-दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के उस फैसले को खारिज कर दिया है जिसमें मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली के कोरोना मरीजों का इलाज होगा.

अनिल बैजल ने केजरीवाल सरकार के इस फैसले को रद्द कर दिया है और इसी के साथ नए आदेशों के अनुसार कोई भी व्यक्ति दिल्ली के अस्पतालों में इलाज करा सकता है.उपराज्यपाल अनिल बैजल ने डीडीएमए चेयरपर्सन होने की हैसियत से संबंधित विभागों और प्रशासन को निर्देश दिया है कि बाहरी राज्य के किसी भी व्यक्ति को इलाज से मना न किया जाए.

दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर और कुमार विश्वास ने उपराज्यपाल अनिल बैजल के इस फैसले की सराहना की है.इसी के साथ गौतम गंभीर ने ट्वीट किया कि, दिल्ली सरकार द्वारा अन्य राज्यों के मरीजों का इलाज नहीं करने के मूर्खतापूर्ण आदेश को खत्म करने के लिए एलजी द्वारा उत्कृष्ट कदम! भारत एक है और हमें मिलकर इस महामारी से लड़ना है! इंडिया फाइट अगेंस्ट कोरोना!

वहीं दूसरी तरफ कुमार विश्वास ने ट्वीट किया,कश्मीर से कन्याकुमारी तक पूरा भारत एक है! लेकिन कुछ बौनी सोच के छोटे लोग हैं जो प्रदेशों में चालू उनकी अधिकारहीन सियासी दुकान के कारण सदा चाहते हैं कि उस राज्य में संघीय ढाँचे के विपरीत पृथकतावादी सोच पैदा होती रहे. भारतीय संविधान की मूल सोच को ज़िंदा रखने हेतु आभार उपराज्यपाल.

फिलहाल उपराज्यपाल के इस फैसले से दिल्ली के बाहर के कोरोना मरीजों और उनके परिवारों को राहत मिलेगी जो महामारी के दौरान इलाज की मांग कर रहे हैं.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को यह ऐलान किया था कि दिल्ली में दिल्ली सरकार और प्राइवेट अस्पतालों में केवल दिल्ली के निवासियों का ही इलाज होगा, जबकि दिल्ली में स्थित केंद्र सरकार के अस्पतालों में सभी का इलाज होगा. कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली कैबिनेट ने यह फैसला लिया है.

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का कहना था कि जून के अंत तक दिल्ली में 15 हजार कोरोना के मरीजों के लिए बेड की जरूरत होगी. एक्सपर्ट कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर सरकार ने ये फैसला लिया है कि दिल्ली अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली के लोगों का इलाज होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

दिल्ली सरकार ने कोरोना स्पेशल टैक्स हटाया ,अब वैट बढ़ा रही सरकार

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने 10 जून को शराब से 70% की कोरोना शुल्क हटा दिया.अनलॉक डाउन के पहले […]

You May Like