लॉक डाउन के राशन में भ्रष्टाचार: गरीबों का हक मार जेब भर रहे हैं कोटेदार

ePatrakaar

हम कोटेदार इस्लाम अहमद के कारनामों की पूरी कहानी अपने पाठकों के सामने रख रहे हैं। आप खुद देखिए किस तरह से इस्लाम की बोलती बंद हो जाती है और उनकी मदद पूर्व विधायक भी करने से मना कर देते हैं।

दंगे ‘इन्सान’ नहीं ‘परिवार’ निगलते हैं: जो चलना सिखाते हैं, उनकी अर्थी उठवाते हैं!

ePatrakaar

यह तस्वीर महज तस्वीर नहीं है बल्कि उस भारत की आत्मा के जलने का प्रतीक है जिसे दंगाइयों ने ‘मजहब का चस्मा’ पहन कर जला दिया.

भोजपुरी किताब ‘अंजुरी भर चाउर’ को रवि किशन से मिली तारीफ

ePatrakaar

इस दौरान बातचीत में सांसद रवि किशन ने कहा कि भोजपुरी को आठवी अनुसूची में ले आने के लिए वे दृढ़ संकल्पित हैं। इस बावत वे प्रधानमंत्री एवं गृह मंत्री को पत्र भी लिखेंगे।

बिहार में बालिका वधु का मामला: 13 साल की बच्ची से शादी कर रहा 30 साल का युवक गिरफ्तार

ePatrakaar

सूचना मिलते ही सक्रिय हुई पुलिस ने छापेमारी कर शादी रुकवाई और सात फेरे लेने से पहले ही दूल्हे और शादी करा रहे पंडित समेत पांच को गिरफ्तार कर लिया। 

संगठन मजबूत कर रहे बिहार के राजनीतिक दल, साल के आखिर में महासंग्राम!

ePatrakaar

साल के आखिर में बिहार राज्य में विधानसभा चुनाव होने हैं। इस बार के चुनाव में कई पार्टियां अपना दमखम ठोंक रही हैं। लेकिन हर बार की तरह इस बार भी दो ही राजनीतिक ध्रुवों के होने की उम्मीद है। हर बार की तरह इस बार भी एनडीए ताल ठोंक रहा है, तो आरजेडी के नेतृत्व में महागठबंधन एनडीए को सत्ता से उखाड़ फेंकने को बेचैन है।

प्रशांत किशोर, पवन कुमार के जाने के बाद आरजेडी से डरे नीतीश कुमार?

ePatrakaar

बिहार में इसी साल आखिर में विधानसभा का चुनाव होना है। राजनीतिक स्थितियों में यह साफ है कि नीतीश कुमार इस बार भी एनडीए गठबंधन के साथ चुनावी मैदान में उतरेंगे। लेकिन हर बार उनके बदलते स्टैंड की वजह से अब जनता उनसे दूरी बनाती दिख रही है।

सुल्तानपुर के कूरेभार में टीबी जागरुकता कार्यक्रम का आयोजन

ePatrakaar

सुल्तानपुर के कूरेभार में टीबी उन्मूलन कार्यक्रम के तहत जागरुकता शिविर का आयोजन किया गया। इस शिविर में स्थानीय लोगों […]

जैश ए मोहम्मद के आतंकी के खिलाफ चार्जशीट तक दाखिल नहीं कर पाई एनआईए, मचा सियासी घमासान

ePatrakaar

जैश ए मोहम्मद से जुड़े आतंकी को एनआईए अंजाम तक नहीं पहुंचा पाई। न तो उसके खिलाफ एनआईए सबूत जुटा पाई, न ही चार्जशीट दाखिल कर पाई। जिसके बाद कोर्ट ने उसे पचास हजार के बेल बांड पर जमानत दे दी। इस आरोपी का नाम यूसुफ चोपन है और उसे यूएपीए कानून के तहत पकड़ा गया था।

सावधान! नोएडा में घूम रहे हैं फर्जी GST इंस्पेक्टर, जमकर कर रहे उगाही

ePatrakaar

नोएडा। इन दिनों नोएडा में जीएसटी के कई फर्जी अधिकारी घूम रहे हैं। ये फर्जी अधिकारी उन लोगों को निशाना […]