“बौखलाहट में है चीन,खाद्य व औद्योगिक संकट से जूझते हुए अकारण भारत पर आक्रमण की दुष्चेष्टा से बाज़ नही आ रहा”

Janardan Yadav

 

डॉ. जनार्दन यादव(पूर्व बीएसएफ़),दिल्ली

                  पूर्वी लद्दाख के वास्तविक नियंत्रण रेखा(एलए सी)पर 29-30अगस्त की दरम्यानी रात चीन के 500 सैनिकों ने पैगोंग झील के दक्षिणी किनारे के इलाके में घुसपैठ की कोशिश की।चीन की चालबाजियों को भांपते हुए  भारतीय सैनिकों ने उन्हें पीछे धकेल दिया।

                 चीन की बौखलाहट इस समय आर्थिक व खाद्यान से जुड़ी समस्याओं को लेकर भी है। चीन के पिछड़े इलाकों में अकारण डैम का पानी छोड़ देने के कारण पूरी की पूरी खड़ी फसल बर्बाद हो गई है जिससे वहां खाद्यान का संकट खड़ा हो गया है।कोरोना महामारी से ठप्प पड़ी औद्योगिक इकाइयां चीन की परेशानी का सबब बनी हुई है।अपनी कमी को आक्रामकता से ढकने की कोशिश में जुटा है चीन।एक दूसरे देश से तनातनी को लेकर भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने एक इंटरव्यू में कहा था कि 1962 के बाद यह सबसे गंभीर स्थिति है।इस समय भी जब चीन ने भारत से युद्ध की हिमाकत की थी व उसकी स्थिति ऐसी हुई कि भुखमरी आ गई थी।1962 में चीन के नेता माओत्से तुंग ने भी भारत को एक आसान लक्ष्य समझ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

"आतंकरोधी अभियानों की कमान संभालेंगी श्रीनगर में चारू सिन्हा"

रूपम वर्मा,एमजेएमसी,दिल्ली                  कश्मीर ऑपरेशन के सीआरपीएफ इंस्पेक्टर जनरल राजेश कुमार  के स्थानांतरण […]