चीन ने भारत से अपने सभी नागरिको को निकालने का फैसला किया

Sushmit Sinha

सोमवार को चीनी दूतावास ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर एक नोटिस जारी किया, जिसमें लिखा है की जो भी चीनी नागरिक भारत से वापस अपने देश चीन जाना चाहते हैं उनके लिए विशेष विमानों कि व्यवस्था की गई है कृपया आपलोग टिकट बुक कर लें।

भारत में अभी हजारों की संख्या में चीनी नागरिक लॉकडाउन के चलते फसे हुए हैं, जिनमें छात्र,पर्यटक और व्यापारी मुख्य हैं।

चीन द्वारा यह कदम भारत में बढ़ रहे कोरोना के मामलों को देखते हुए लिया गया है। बता दें की हाल ही में भारत को उन टॉप 10 देशों में शामिल किया गया है जहां कोरोना संक्रमितों के सबसे अधिक मामले हैं।

भारत में इस वक्त लगभग 1.40 लाख लोग कोरोना से संक्रमित हैं। हर रोज भारत में हजारों की तादाद मे मामले बढ़ रहे हैं।

कोरोनावायरस का पहला केस दिसंबर में चीन के वुहान शहर में दर्ज किया गया था, जिसके बाद देखते-देखते इस वायरस ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया।

आज पूरी दुनिया में 54 लाख से अधिक लोग इस वायरस से संक्रमित हैं, और तकरीबन 3.4 लाख लोगों की इस वायरस के चलते जान जा चुकी है।

बता दें की भारत ने भी फरवरी में वुहान से अपने 700 नागरिकों को एक विशेष विमान से निकाला था।

चीनी दूतावास ने अपने नोटिस में कहा है कि,जो लोग भी चीन वापस जाना चाहते हैं उन्हें चीन पहुंचने के बाद कोरोना महामारी के मद्दे नजर बनाये गए सभी नियमों का पालन करना होगा।

आगे दूतावास ने कहा की विमान में केवल उन्हीं लोगों को प्रवेश मिलेगा जिनमें पिछले 14 दिन से कोई भी कोरोना के लक्षण न पाए गये हों, जैसे खांसी,जुखाम,बुखार इत्यादि।

विमान में प्रवेश से पहले सभी की थर्मल स्कैनिंग होगी जिनके भी शरीर का तापमान नार्मल से अधिक होगा उन्हें विमान में प्रवेश नहीं मिलेगा।

चीनी दूतावास ने भारत के विदेश मंत्रालय और संबंधित विभागों से भी चीनी नागरिकों को चीन वापस भेजने में मदद करने का अनुरोध किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

श्रमिक स्पेशल ट्रेन का सच, परेशान हुए मजदूर

सामान्य दिनों में रेलवे रोजाना लगभग 6000 ट्रेनें चलती है जिसमें 2.50 से 3 करोड़ यात्री सफ़र करते है और अभी रोजाना लगभग 200 ट्रेनें चलाई जा रही है तो यह कहना ग़लत होगा कि ज़्यादा ट्रैफिक होने के कारण ट्रेनें अपने गंतव्य स्टेशन से भटक रही हैं।
श्रमिक स्पेशल ट्रेन