अरविंद केजरीवाल ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात,फिर लग सकता है लॉकडाउन

Ashu Yadav

पिछले दिनों दिल्ली में केजरीवाल सरकार और दिल्ली के उपराज्यपाल के बीच खींचातानी देखने को मिली थी.दिल्ली के उपराज्यपाल एलजी अनिल बैजल ने दिल्ली सरकार अहम फैसलों को पलट दिया था. जिनमें एक फैसला दिल्ली सरकार के अस्पताल और राजधानी के प्राइवेट अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली वालों के इलाज का था और दूसरा फैसला बिना लक्षण वाले मरीजों का इलाज ना करने को लेकर था.

Informative
अरविंद केजरीवाल ने अमित शाह से मुलाकात

नई दिल्‍ली। राजधानी दिल्ली में कोरोना के लगातार बढ़ रहे मामलों के बीच मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की. दिल्ली में मेडिकल इमरजेंसी के हालात के बीच इस मुलाकात के कई मायने हैं.इस मुलाकात के बाद अनुमान यह लगाया जा रहा हैं कि दिल्ली में बिगड़ते हालात को देखते हुए यहां फिर लॉकडाउन लगाया जा सकता है.

अमित शाह से मुलाकात के बाद अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट करके कहा हैं कि गृह मंत्री से कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को लेकर विस्तार से चर्चा की और उन्होंने सहयोग का आश्वासन भी दिया हैं.

पिछले दिनों दिल्ली में केजरीवाल सरकार और दिल्ली के उपराज्यपाल के बीच खींचातानी देखने को मिली थी.दिल्ली के उपराज्यपाल एलजी अनिल बैजल ने दिल्ली सरकार अहम फैसलों को पलट दिया था. जिनमें एक फैसला दिल्ली सरकार के अस्पताल और राजधानी के प्राइवेट अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली वालों के इलाज का था और दूसरा फैसला बिना लक्षण वाले मरीजों का इलाज ना करने को लेकर था.

दूसरे राज्यों के लोगों को दिल्ली में इलाज के लिए अनुमति दे दिए जाने के बाद से दिल्ली सरकार की चिंता ओर अधिक बढ़ गई है.दिल्ली में लगातार मरीज बढ़ते जा रहे हैं और प्राइवेट अस्पतालों में बेड लगभग भर चुके हैं.

दिल्ली सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि सरकार हालात पर नजर रखे हुए है और रोज आने वाले मरीजों को लेकर गहनता से समीक्षा कर रही है और यदि जरूरी हुआ तो सरकार लॉकडाउन पर फैसला लेगी.

कोरोना से निपटने के लिए दिल्ली सरकार पहले ही केंद्र से 5000 करोड़ रुपएमांग चुकी है. ऐसे में जब आने वाले समय में स्वास्थ्य सेवाओं और इंफ्रास्ट्रक्चर को और बढ़ाने की जरुरत होगी तब भी केंद्र सरकार दिल्ली में अहम भूमिका निभा सकती है.

सीएम केजरीवाल ने यह साफ कर दिया कि यह वक्‍त दिल्‍ली की जनता की सेवा करने का है और इस कठिन हालात के समय में राजनीति करने वालों के लिए जगह नहीं होनी चाहिए.

अरविंद केजरीवाल और अमित शाह की मुलाकात के कई मायने हैं और वो आने वाले समय में कोरोना की चुनौती से निपटने में निर्णायक साबित हो सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा:- इच्छाशक्ति हमारी बहुत बड़ी और मजबूत ताकत है

पीएम मोदी ने कहा है कि यह समय अवसर को पहचानने का है और खुद को आज़माने का है और साथ ही नई बुलंदियों की ओर जाने का भी है और अगर यह सबसे बड़ा संकट है तो हमें इससे सबसे बड़ी सीख लेते हुए, इसका पूरा लाभ भी उठाना चाहिए. जीईएम प्लेटफॉर्म पर छोटे-छोटे सेल्फ हेल्प ग्रुप, MSMEs, सीधे भारत सरकार को अपने सामान और अपनी सेवाएं उपलब्ध करा सकते हैं.
Informative

You May Like