‘समाज की मानसिकता को ‘थप्पड़’ से दे रही हूं जवाब’

ePatrakaar

मुंबई। बॉलीवुड में हर साल सैकडों फिल्में बनती हैं। देश के अलग अलग हिस्सों में अलग अलग भाषाओं में भी सैकडों फिल्में बनती हैं। कुछ सुपरहिट होती हैं, कुछ सुपरफ्लॉप होती हैं। लेकिन इसमें से कुछ ऐसी फिल्में भी होती हैं जो समाज पर अपनी एक अलग छाप छोड़ जाती हैं। ऐसी ही एक फिल्म आ रही है ‘थप्पड़’, जो डोमेस्टिक वॉयलेंस यानि घरेलू हिंसा और उससे होने वाली मनोवैज्ञानिक समस्याओं पर गंभीर तरह से बात करती है।

 

‘थप्पड़’ फिल्म महिला प्रधान फिल्म है और इसमें उस विषय पर चर्चा की गई है, जो अब तक किसी फिल्म में नहीं दिखा। इस फिल्म में बेहद महत्वपूर्ण रोल कर रही अभिनेत्री दीया मिर्जा ने कहा कि उन्हें ऐसे काम करने में मज़ा आता है, जो एक स्‍ट्रांग मैसेज देता है – चाहे वह उनकी फिल्में हों या फिर स्वच्छता और दुनिया की हरियाली के लिए एक राजदूत के रूप में उनकी भूमिका। वे ऐसे सब्‍जेक्‍ट को एक्‍सप्लोर करती हैं, जो सच्‍चाई का प्रतिनिधित्‍व करती हैं। जो हमेशा देखने या सुनने के लिए सुंदर नहीं है। उनकी अपकमिंग फिल्म ‘थप्पड़’ ऐसा ही एक और उदाहरण है, जो एक ऐसे विषय का हिस्सा बनना चाहती है, जो बोल्ड हो और समाज में एक नए विचार को आगे बढ़ाए।

फिल्म ‘थप्पड़’ पर बात करते हुए उन्‍होंने कहा कि यह मेरी कोशिश है कि मैं मानवीय कहानियों का हिस्सा बनूं, जो सच्चाई को दर्शाती है। यह कहानी हमें सोचने और संभवतः सकारात्मक बदलाव लाने के लिए मजबूर करती है।

‘थप्पड़’ एक ऐसी फिल्म है, जो बहुत ही पावरफुल है।‘ दीया ने फिल्‍म की लीड अभिनेत्री तापसी की भी प्रशंसा की, जो फिल्म में मुख्य भूमिका में है। वह कहती है, ‘तापसी एक भयंकर शेरनी है और मैं हमेशा उसके काम का एक उत्साही प्रशंसक रही हूं। ऐसी अविश्वसनीय कास्ट का हिस्सा बनना खुशी की बात है जो सामूहिक रूप से महत्वपूर्ण है।’ दीया मानती हैं कि थप्पड़, अनुभव सिन्हा के साथ उनकी तीसरी फिल्म है।

 

इस फिल्म का निर्देशन अनुभव सिन्हा ने किया है, जो मुल्क, आर्टिकल 15 जैसी बेहद गंभीर फिल्में बना चुके हैं। इस फिल्म में तापसी पन्नू एक बार फिर से बेजोड़ रोल में हैं, तो दीया मिर्जा भी बेहद दमदार रोल में वापसी कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

चुनावी प्रचार और गिरता सदाचार

जब सियासी कुनबे वाले एक दूसरे पर जहरीले बयानों की गन्द उगलने लगे तो समझ लेना कि चुनावी दंगल की […]