सस्पेंस कॉमेडी और थ्रिलर पर आधारित बन रही फिल्म पुणे टु गोवा, दिखेगा रोमांचक सफर

ePatrakaar
Read Time:2 Minute, 13 Second

मुंबई:बॉलीवुड की आनेवाली फ़िल्म पुने टू गोवा अमोल भगत की निर्देशन में बन रही है। जो उनकी ये पहली बॉलीवुड डेब्यूट फिल्म होग,साथ में मुजम्म्मिल मुमताज इस फिल्म में अस्सिटेंट डायरेक्टर के रुप में काम करेंगे।मोरया प्रोडक्शन हाउस के बैनर तले इस कॉमेडी , सस्पेंस और थ्रिलर फ़िल्म का निर्माण हो रहा है । इस फ़िल्म का एक जर्नी सॉन्ग बॉलीवुड के लोकप्रिय  सिंगर जावेद अली ने गाया है और इस गाने को पी . शंकरम ने म्यूजिक दिया है   फ़िल्म का संवाद और पटकथा वेलकम, रेडी जैसी फिल्मे कर चुके राजन अग्रवाल ने लिखा है।

इस फिल्म के निर्माता प्रल्हाद रामभाऊ तावरे , रविन्द्र हरपले और  जितुभाई .डी. सोनी तथा सहनिर्माता नवा निसर्ग प्रोडक्शन(किशोर खरात) ,नवनाथ जाचक, विठ्ठल घुगे, मारुति मानवर हैं।

 

डायरेक्टर अमोल भगत कहते है  दरअसल यह जिनमे उनको पुने से गोवा के टूर्स पर जाते जाते आनेवाले अद्भुत अनुभव , रहस्यमयी घटनाएं और उनके ऊपर आनेवाले संकट को दिखाता है । इस फ़िल्म में सस्पेंस के अलावा आपको रोमान्स का तड़का भी देखने को मिलेगा ।

 

इस फ़िल्म की शूटिंग जल्द ही गोवा में शुरू होने वाली है।इस फ़िल्म को भारत के साथ साथ अलग अलग देशो में भी रिलीज किया जायेगा।

 

हाल में ही इस फ़िल्म के ऑडिशन मुंबई में हुआ जिसमे यहा के बहुत से कलाकारों को फ़िल्म में कास्ट किया गया है। जिनमे पटना के रहने वाले असद एडी, इमरान और राहुल और आदि कलाकार हैं।

(Press release)

100 total views, 1 views today

0 0

About Post Author

ePatrakaar

Proud Indian #Political Thinker-Strategist, #Journalist at @KhabarNWI, ex- @InKhabar @AmarUjalaNews @News18India @WebduniaHindi @Mahuaa
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 : केजरीवाल वर्सेज मोदी का ये है गणित...

नई दिल्ली। अरविंद केजरीवाल जिस लोकतांत्रिक व्यवस्था का दावा करके चुनाव में उतरे थे, सबसे पहले उन्होंने, उन्हीं लोकतांत्रिक विचारों को तिलांजलि दी थी, योगेंद्र यादव, प्रशांत, विश्वास, को पार्टी से निकालने की ड्रमेटिक कहानियां तो पढ़ने को मिल गईं थीं, लेकिन ऐसे हजारों समर्थकों की कहानियां अखबारों में जगह […]