“सरकारी कर्मचारियों को अपने कार्य में दक्ष होना होगा,वरना छंटनी की तलवार चलेगी”

Janardan Yadav

डॉ जनार्दन यादव(पूर्व बीएसएफ़),दिल्ली 

           कार्मिक मंत्रालय के ताजा आदेश के मुताबिक केंद्र सरकार के कर्मचारियों की छंटनी की तैयारी उन कार्मिकों के लिए है जो या तो अक्षम हैं या भ्रष्ट।सभी कार्यालयों में तीस साल से ज्यादा सर्विस कर चुके सभी कर्मियों के सर्विस रिकॉर्ड की समीक्षा को कहा गया है।स्थाई रूप से रिटायरमेंट करके सरकर यह जानना चाहती है कि अक्षम व भ्रष्ट कर्मचारियों से जनता की अपरोक्ष हानि होती है व ये फैसला जनहित में है।

                 कर्मचारियों के कामकाज़ की समीक्षा सेंट्रल सिविल सर्विस(पेंशन)रूल्स,1972 के मूलभूत नियम(एफआर)56(जे)व 56(आई)और48(आई)(बी)के तहत की जाएगी।इससे प्रशासन को एक सरकारी नौकर को पूरी तरह से रिटायर करने का अधिकार मिलता है। शुक्रवार को जारी आदेश में कहा गया है कि 50 से 55 वर्ष होने या सेवाकाल 30 वर्ष पूरे होने पर कभी भी सेवानिवृति किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

"एक साल की देरी हो सकती है भारतीय जनगणना में"

 रूपम वर्मा,एमजेएमसी,दिल्ली                          भारत में जनगणना के काम दुनिया की सबसे […]