कोरोना मरीजों को भर्ती नहीं कर रहे और बेड के नाम पर ब्लैकमार्केटिंग करने वाले अस्पताल पर होगी कार्रवाई: केजरीवाल

Ashu Yadav

मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि हॉस्पिटल बेड्स की ब्लैक मार्केटिंग कर रहे है. मैं उनको चेतावनी देना चाहता हूँ कि ऐसे हॉस्पिटल को बख्शा नही जाएगा. दिल्ली में कोरोना एप लांच होने के बाद से 1100 मरीज प्राइवेट अस्पतालों में मंगलवार से तक एडमिट हुए हैं.

Informative
केजरीवाल ने दी अस्‍पतालों को चेतावनी

नई दिल्‍ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा है कि कोरोना महामारी के संकट के बीच बेड की ब्लैक मार्केटिंग करने वाले सभी अस्पतालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की बात कही है और सभी अस्‍पतालों को चेतावनी भी दी है.

मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि हॉस्पिटल बेड्स की ब्लैक मार्केटिंग कर रहे है. मैं उनको चेतावनी देना चाहता हूँ कि ऐसे हॉस्पिटल को बख्शा नही जाएगा.

सीएम केजरीवाल ने कहा है कि अस्पताल लोगो का करने के लिए बनाए है न कि पैसे कमाने के लिए नहीं.इसके बाद सीएम केजरीवाल ने कहा कि हमने बेड की ब्लैक मार्केटिंग को रोकने के लिए एक मोबाइल ऐप लॉन्च किया है. एप लांच करने के बाद से बवाल मच गया है, अब अस्पताल खुद ही बेड और वेंटिलेटर की संख्या की जानकारी एप पर अपडेट कर रहे हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा, कुछ अस्पताल कोरोना महामारी के रोगियों के प्रवेश से इनकार कर रहे हैं. मैं उन लोगों को चेतावनी दे रहा हूं जो सोचते हैं कि वे अन्य दलों के अपने रक्षक के प्रभाव का उपयोग करके बिस्तरों की ब्लैक-मार्केटिंग करने में सक्षम होंगे, आपको बख्शा नहीं जाएगा.

वहीं अस्पतालों द्वारा इलाज से मना करने को लेकर सीएम केजरीवाल ने कहा है कि अब से एक वॉलंटियर्स प्राइवेट अस्पतालों में बैठेगा जो लोगों को बेड दिलाने में मदद करेगा.

अरविंद केजरीवाल ने मीडिया से बात चीत के दौरान कहा हैं कि शुक्रवार को 33 अस्पतालों के साथ बैठक हुई थी और आज यानि शनिवार को सभी अस्पतालों के साथ बैठक हो जाएगी.इसी के साथ अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि दुनिया मे पहली बार ऐसा एप बना है जो अस्पतालों में बेड का डेटा जनता के लिए पारदर्शी कर रहा है.

दिल्ली में कोरोना एप लांच होने के बाद से 1100 मरीज प्राइवेट अस्पतालों में मंगलवार से तक एडमिट हुए हैं.

दिल्ली सरकार ने आज आदेश जारी कर दिया है कि अब से कोई अस्पताल किसी भी मरीज को एडमिट या इलाज करने से मना नही कर सकता हैं,लेकिन अगर कोई अस्पताल सरकार का आदेश नहीं मानता है तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई भी की जाएगी. सीएम ने कहा, एक-एक प्राइवेट अस्पताल के मालिक को बुला कर हम उनसे जवाब मांगेंगे. जो अस्पताल इलाज करने से मना करेंगे.

मुख्यमंत्री ने आगे बताया है कि दिल्ली में आज 5300 टेस्टिंग हुई है और अभी भी टेस्ट बंद नहीं हुए है.दिल्ली में सरकारी और प्राइवेट मिला के कुल 42 लैब है, उनमे से 36 लैब अच्छे से काम कर रहे है परतु 6 लैब ठीक से काम नही कर रहे हैं , उनको चेतावनी दे दी गई है कि उनके खिलाफ एक्शन लिया गया है. इसी के साथ दिल्ली सरकार के 17 कोविड सेंटर हैं वहां पर भी टेस्ट कराई जा सकती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कोरोना संक्रमितों के मामलों में इटली से भी आगे निकला भारत

चीन से निकले कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को संकट में डाल दिया है। भारत में भी प्रतिदिन कोरोना के […]