विनायक सावरकर की जयंती पर पीएम मोदी ने ट्वीट कर दी श्रद्धांजलि

Ashu Yadav

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के सेनानी और राष्ट्रवादी नेता वीर सावरकर की आज जयंती है और इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें नमन किया और स्वतंत्रता आंदोलन में उनके योगदान को याद करते हुए ट्वीट किया और इस दौरान पीएम मोदी ने एक वीडियो भी ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने विनायक सावरकर का जिक्र किया.

Decorative
सावरकर की जयंती पर पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के सेनानी और राष्ट्रवादी नेता वीर सावरकर की आज जयंती है और इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें नमन किया और स्वतंत्रता आंदोलन में उनके योगदान को याद करते हुए ट्वीट किया और इस दौरान पीएम मोदी ने एक वीडियो भी ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने विनायक सावरकर का जिक्र किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि- ‘वीर सावरकर की जयंती पर मैं उनको नमन करता हूं, हम उन्हें उनकी बहादुरी, स्वतंत्रता आंदोलन में योगदान और हजारों लोगों को प्रोत्साहित करने के लिए नमन करता हूँ और इसके अलावा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी सावरकर को श्रद्धांजलि दी.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी ट्वीट करते हुए लिखा है कि- वीर सावरकर भारत माता के ऐसे सपूत थे जिन्होंने अदभुत जीवट और राष्ट्रप्रेम का परिचय देते हुए इस देश को आजाद कराने में बड़ी भूमिका निभाई और उन्होंने एक भारत और मजबूत भारत की कल्पना की जिसे साकार करने का संकल्प हर भारतीय के मन में है. सावरकर जी की इस जयंती पर मैं उन्हें नमन करता हूं!

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भी वीर सावरकर को याद करते हुए ट्वीट करते हुए लिखा है कि सावरकर जी एक महान देशभक्त और इसके अलावा एक बहुत निराले साहित्यकार थे. भाषा शुद्धि का काम और समाज सुधारने के लिए उन्होंने नींव के पत्थर का काम किया है। सावरकर जी पीढ़ी दर पीढ़ी प्रेरणा देते रहेंगे। वीर सावरकर की जयंती पर उन्हें कोटि कोटि नमन.

पीएम मोदी के अलावा भारतीय जनता पार्टी के ट्विटर हैंडल की ओर से भी विनायक सावरकर को याद किया गया और साथ ही कई भाजपा नेता, केंद्रीय मंत्रियों ने इस अवसर पर ट्वीट कर श्रद्धांजलि दी.

सावरकर का जन्म 28 मई 1883 में मुंबई में हुआ था. सावरकर क्रांतिकारी होने के साथ लेखक, वकील और हिंदुत्व की विचारधारा के समर्थक थे. , स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान अंग्रेजों ने उन्हें कालापानी की सजा दी थी और फिर विनायक दामोदर सावरकर का निधन 26 फरवरी 1966 को हुआ था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कोरोना ने बदल दी शिक्षा की दिशा और दशा-समझे आप पर किस तरह पड़ेगा प्रभाव

ऑनलाइन एजुकेशन सिस्टम से हम सभी वाकिफ हैं और इसकी उपयोगिता से भी परिचित हैं.कोरोना महामारी ने जिस तरह सारे […]

You May Like