केरल: गर्भवती हथिनी की हत्या पर केंद्र सरकार और केरल के मुख्यमंत्री का आया बयान- दोषियों को सजा दी जाएगी

Ashu Yadav

केरल के मलप्पुरम जिले में एक गर्भवती भूखी हथिनी भोजन की तलाश में जंगल के बाहर आ गई थी और हथिनी गांव में भोजन की तलाश में भटक रही थी. कुछ स्थानीय लोगों ने गर्भवती हथिनी को शरारत में अनानास में पटाखे भरकर खिला दिया जिसके बाद उसके मुंह में पटाखे फट जाने से उस गर्भवती हथिनी मौत हो गई.

Informative
गर्भवती हथिनी की दर्दनाक हत्या

केरल के मलप्पुरम जिले में एक गर्भवती भूखी हथिनी भोजन की तलाश में जंगल के बाहर आ गई थी और हथिनी गांव में भोजन की तलाश में भटक रही थी. कुछ स्थानीय लोगों ने गर्भवती हथिनी को शरारत में अनानास में पटाखे भरकर खिला दिया जिसके बाद उसके मुंह में पटाखे फट जाने से उस गर्भवती हथिनी मौत हो गई.

प्रकाश जावडेकर ने कहा है कि ‘केंद्र सरकार ने केरल में हुई गर्भवती हथिनी की हत्या को बहुत ही गंभीरता से लिया है और हम मामले की गहराई से जांच और दोषियों को पकड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे क्योकि यह भारतीय संस्कृति नहीं है कि जानवरों को पटाखा खिलाया जाए और जान ली जाए.
प्रकाश जावडेकर ने कहा है कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा और उन्हें सजा दी जाएगी.

वन अधिकारी मोहन कृष्णन ने पूरे घटना को फेसबुक पर लिखा जिसके बाद सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा झलकने लगा. मोहन कृष्णन ने फेसबुक पर लिखा है कि ‘उसने सभी पर भरोसा किया. जब वह अनानास खा गई और कुछ देर बाद उसके पेट में यह फट गया तो वह परेशान हो गई. हथिनी अपने लिए नहीं बल्कि उसके पेट में पल रहे बच्चे के लिए परेशान हुई होगी, जिसे वह अगले 18 से 20 महीने में जन्म देने वाली थी.’

केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयन ने भी इस शर्मनाक घटना को गंभीरता से लिया है,उन्होंने कहा है कि इस मामले में सख्त कार्रवाई सुनिश्चित की जा रही है और हथिनी की हत्या के गुनहगारों के खिलाफ सख्त कार्रवाई भी की जाएगी.मुख्यमंत्री पी. विजयन ने कहा है कि वन विभाग मामले की जांच कर रहा है और दोषियों के खिलाफ केस दर्ज होगा.

इस बीच वाइल्ड लाइफ एसओएस एनजीओ ने अपराधियों की सूचना देने वाले को एक लाख रुपये देने का ऐलान किया है और वहीं दूसरी ओर ह्यूमन सोसायटी इंटरनैशनल/इंडिया ने 50 हजार रुपये इनाम का ऐलान किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कोरोना संकट पर केंद्र सरकार का फैसला, मार्च 2021 तक नहीं शुरू होगी कोई भी नई स्कीम

इसी के साथ वित्त मंत्रालय ने भी विभिन्न मंत्रालयों और विभागों द्वारा अगले 9 महीनों या मार्च 2021 तक स्वीकृत नई योजनाओं की शुरुआत को रोक दिया है.आर्थिक संकट से जूझ रहे वित्त मंत्रालय ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए किसी भी नई योजना की शुरुआत पर रोक लगा दी है.
Informative