केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने की सुशांत सिंह राजपूत के परिवार से मुलाकात

Ashu Yadav

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सुशांत के पटना वाले घर जाकर उनके पिता केके सिंह से मुलाकात की.केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सोशल मीडिया पर उस मुलाकात की कुछ तस्वीर भी शेयर की हैं.

Informative
सुशांत के परिवार से मिलते रविशंकर प्रसाद

एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद से बॉलीवुड में शोक का वातावरण है और राजनीति के गलियारों में भी मातम पसरा दिखा रहा है. इसी बीच आज शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सुशांत सिंह राजपूत के परिवार से मुलाकात की और अपनी संवेदना व्यक्त की है. रविशंकर प्रसाद ने एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की याद में एक इमनोशल ट्वीट भी किया है.

रविशंकर प्रसाद ने की सुशांत के परिवार से मुलाकात

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सुशांत के पटना वाले घर जाकर उनके पिता केके सिंह से मुलाकात की.केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सोशल मीडिया पर उस मुलाकात की कुछ तस्वीर भी शेयर की हैं. तस्वीर में एक तरफ रविशंकर प्रसाद सुशांत को श्रद्धांजलि देते दिख रहे हैं, वही दूसरी तस्वीर में वो उनके पिता केके सिंह ने बातचीत कर रहे हैं.

रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट कर एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के जाने पर दुख व्यक्त किया है. उन्होंने ट्वीट में लिखा कि-“सुशांत सिंह राजपूत के पटना वाले घर गया था.परिवार से मुलाकात की है.अपनी संवेदना व्यक्त की है.एक सुपर टैलेंटेड एक्टर का यूं अंत हो जाना दुख देता है. उनके निधन के बाद फिल्मों में क्रिएटिव एक्टिंग कम हो जाएगी. उन्हें बहुत ऊंचाई पर पहुंचना था. वो इससे ज्यादा डिजर्व करते थे”.

पुलिस कर रही मामले की जांच

सुशांत सिंह राजपूत ने 14 जून को अपने मुंबई वाले फ्लैट में आत्महत्या कर ली थी और 15 जून को एक्टर का अंतिम संस्कार हुआ और 18 जून को एक्टर की अस्थियों को गंगा में विसर्जित कर दिया गया. सुशांत ने आत्महत्या जैसा कदम क्यों उठाया ये बात अभी तक साफ नहीं हुई है और पुलिस इस समय सुशांत केस में जांच कर रही है. इसी के साथ पुलिस हर करीबी शख्स से पूछताछ करके उनके बयान दर्ज कर रही हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

दिल्ली में कोरोना वायरस के मरीजों के लिए होम क्वारनटीन की सुविधा हो सकती है खत्म

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने दिल्ली सरकार के अधिकारियों से कहा है कि कोरोना वायरस के पॉजिटिव मरीजों को 5 दिनों के लिए अनिवार्य क्वारनटीन पर भेजा जाना चाहिए. उसके बाद यदि उनके लक्षणों में सुधार होता है या लक्षण स्थिर रहते हैं, तो मरीज को होम क्वारनटीन के लिए वापस भेजा जा सकता है नहीं तो उन्हें सरकारी व्यवस्था के अंतर्गत ही रहना होगा.
informative