…जब करीम लाला से मिलीं इंदिरा गांधी, ये है असली कहानी!

ePatrakaar
Read Time:3 Minute, 12 Second

जितेंद्र दीक्षित, वरिष्ठ पत्रकार। शिवसेना के नेता और सामना के संपादक संजय राउत की ओर से दिए गए इस बयान से बवाल खड़ा हो गया है कि 70 और 80 के दशक के अंडरवर्ल्ड डॉन करीम लाला पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से मुलाकात किया करते थे। एबीपी न्यूज़ ने जब इस मामले की तहकीकात की, तो पता चला कि दोनों के बीच में सिर्फ एक ही मुलाकात हुई थी और वो मुलाकात दिल्ली के राष्ट्रपति भवन में हुई थी जहां पद्म पुरस्कार दिए जा रहे थे।

ये 1973 की बात है जब मशहूर लेखक, अभिनेता और कवि हरिंद्रनाथ चट्टोपाध्याय को पद्मभूषण पुरस्कार दिया जाना था। जब चट्टोपाध्याय ये पुरस्कार लेने के लिए दिल्ली जा रहे थे तो करीम लाला ने उनसे गुजारिश की कि वो भी राष्ट्रपति भवन देखना चाहते हैं और साथ चलने का निवेदन किया। इस पर चट्टोपाध्याय उन्हें अपने साथ ले गए।

 

दिल्ली में पद्म पुरस्कार समारोह के दौरान देश की कई जानी-मानी हस्तियां मौजूद थी। जिनमें तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी भी थी। पुरस्कार वितरण के बाद जब लोग आपस में मेल मिलाप करने लगे तो उसी दौरान करीम लाला ने इंदिरा गांधी से मुलाकात की और उनके साथ एक तस्वीर भी खिंचाई। करीम लाला ने खुद को मुंबई में पठानों के नेता के तौर पर पेश किया था। तमाम अंडरवर्ल्ड डॉन की तरह करीम लाला का भी फिल्मी सितारों और फिल्मकारों के साथ उठना बैठना था। जब उसे मालूम पड़ा कि चट्टोपाध्याय दिल्ली जा रहे हैं तो उन्होंने भी साथ जाने की सोची। करीम लाला को चट्टोपाध्याय मना नहीं कर सके। देश की जानी मानी और ताकतवर हस्तियों के साथ अपनी तस्वीरें खिंचवा कर अंडरवर्ल्ड डॉन अपना रुतबा बढ़ाया करते थे।

दिल्ली में इंदिरा गांधी के साथ हुई करीम लाला की इस मुलाकात के अलावा कोई दूसरी मुलाकात दोनों के बीच मुंबई अंडरवर्ल्ड के इतिहास में दर्ज़ नहीं है।

 

लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं। वर्तमान समय में एबीपी न्यूज से जुड़े हुए हैं। ये पोस्ट उनके फेसबुक वॉल से साभार ली गई है। तस्वीर के साथ। ये जानकारी प्रकाश हिंदुस्तानी जी के फेसबुक वॉल से ली गई है। 

1,413 total views, 25 views today

1 0

About Post Author

ePatrakaar

Proud Indian #Political Thinker-Strategist, #Journalist at @KhabarNWI, ex- @InKhabar @AmarUjalaNews @News18India @WebduniaHindi @Mahuaa
Happy
Happy
100 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सिनेमा पर विशेष: दिलीप को साधने डायरेक्टर बने मनोज कुमार

वीर विनोद छाबड़ा। दिलीप कुमार को डायरेक्ट करने के लिए एक्टर-डायरेक्टर-प्रोड्यूसर-लेखक और दादा साहब फाल्के अवार्डी पद्मश्री मनोज कुमार को हर ख़ास-ओ-आम जानता है। देशभक्ति से ओतप्रोत फ़िल्में बनाने में उनका कोई जवाब नहीं रहा। लेकिन उनके बारे में एक ख़ास बात लोग नहीं जानते हैं। वो डायरेक्टर क्यों बने? […]